Breaking News

महिला एसआई और आरक्षको पर लगे ऑनलाइन रिश्वत लेने के आरोप

reporter 2019-10-11 464
  • share on whatsapp Buffer
  • kissaago

    सीहोर। करप्शन और दलाली को खत्म करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डिजिटल इंडिया का नारा दिया। जिसके तहत ऑनलाइन पैसा ट्रांसफर और कैशलेश को बढ़ावा दिया गया लेकिन अब मोबाइल मनी ट्रान्सफर से कर्मचारी अधिकारी घूसखोरी कर रहे हैं। ऐसा ही एक मामला सीहोर पुलिस का सामने आ रहा है जिसमे शिकायत कर्ता ने सीहोर में पदस्थ एक महिला एसआई सहित आधा दर्जन आरक्षको पर ऑन लाईन रिश्वत लेंने के गंभीर आरोप लगाए हैं।
    पिछले दिनों सीहोर कोतवाली पुलिस ने ग्राम फुलमोगरा में दबिश देते हुए जुआरियों को पकड़ा था। इन्ही में से आरोपी बनाए गए सैय्यद फराउद्दीन ने वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को एक शिकायती आवेदन सौंपकर पुलिस विभाग की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े कर दिए हैं।
    सैय्यद ने बताया है कि 9 सितंबर को नजदीकी ग्राम मोगराफूल में एक फॉर्महाउस पर दोस्त मनोरंजन के लिए ताश पत्ते खेल रहे थे तभी कोतवाली में पदस्थ एस आई पूजा राजपूत और 6 आरक्षक वहाँ पहुंचे। कहा कि तुम्हें पूछताछ के लिए थाना कोतवाली ले जा रहे है। थाने ले जाकर छोड़ने के एवज में 50 हजार रूपए की मांग रखी गई, हमसे बोला गया कि तुम्हारे खिलाफ एफआईआर होगी। कहा कि तुम लोग 65 हजार रूपए दो तो बिना कार्यवाही के छोड़ देंगे। लेकिन हम से पैसे भी ले लिए और हम पर धारा 151, जुआ एक्ट के तहत केस भी दर्ज कर दिया गया। हमे ग्राम मोगराफूल से पकड़ा गया लेकिन जप्ती बीएसआई मैदान में बनाई गई। हम से 1 लाख 34 हजार लिए गए जबकि जप्ती 22 हजार रूपए की बनाई गई।
    शिकायत कर्ता ने आरोप लगाए है कि हमसे एक आरक्षक ने नकद 15 हजार ओर ऑनलाइन 30 हजार रुपए उसी रात को पैसा ट्रांसफर करवाया गया।
    शिकायत के बाद पुलिस महकमे में खलबली मची पड़ी है विश्वस्त सूत्रों की माने तो एक रौचक घटना क्रम यह है कि सभी पुलिस कर्मियों ने अपने थाने सीमा से बाहर जाकर अन्य थानांतर्गत बिना किसी अधिकारी की निर्देश के यह कार्यवाही की है। बताया जा रहा है कि मामले में टीआई स्तर के अधिकारी को जांच सौपी गई है। इस मामले में जब एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी से बात की गई तो उनका कहना है कि शिकायत मिली है जांच चल रही है। .

    Similar Post You May Like