Breaking News

राष्ट्रीय बालिका दिवस- बालिकाओं और अभिभावकों का किया सम्मान

reporter 2020-01-24 77
  • share on whatsapp Buffer
  • kissaago
    • राष्ट्रीय बालिका दिवस कार्यक्रम।

    सीहोर। राष्ट्रीय बालिका दिवस के उपलक्ष्य में शुक्रवार को कार्यक्रम आयोजित किया गया। जिसमें उत्कृष्ट कार्य के लिए बालिकाओं और उनके अभिभावकों को सम्मानित किया गया।
    इस अवसर पर बालिकाओं के बेहतर भविष्य एवं सशक्तिकरण, शिक्षा सुरक्षा एवं समाज में सकारात्मक वातावरण निर्मित हो तथा बालिकाएं हर क्षेत्र में आगे आए आगे बडे अच्छा मुकाम हासिल करें। राष्ट्रीय बालिका दिवस 24 जनवरी को सम्मान समारोह का आयोजन सीहोर नगर पालिका अध्यक्ष श्रीमती नमिता विवेक राठौर की अध्यक्षता में शासकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान सीहोर में आयोजित किया गया। सर्व प्रथम अतिथियों द्वारा महात्मा गांधी के चित्र के समक्ष माल्र्यापण एवं दीप प्रज्जवलन किया गया। जिला कार्यक्रम अधिकारी श्रीमती रचना बुधोलिया द्वारा अतिथियों का पुष्प गुच्छ से स्वागत किया गया गया।
    कार्यक्रम में एक या दो बालिका संतान के माता-पिता ऋतुराज शर्मा, डॉ. मारुती राव, श्रीमती प्रभा प्यासी, श्रीमती सुकेश, खलील अंसारी तथा बालिका की शिक्षा को महत्व देने वाले पालक संतोष मैथिल ऐथलेटिक निबंध एनसीसी आदि में अग्रणी बालिकाओं बुषरा खान, दिव्या व्यास, मीनू सोनी, अंजली सिसौदिया को ट्राफी एवं प्रमाण पत्र प्रदान कर सम्मानित किया गया। साथ ही किशोरी बालिकाओं के स्वास्थ्य परिक्षण हेतु शिविर लगाये गये जहां 500 बालिकओं की हिमोग्लोबीन की जांच की गई।
    पुलिस लाईन परेड ग्राउण्ड पर बेटी बचाओ बेटी का संदेश देने हेतु विशाल मानव श्रंखला का निर्माण किया गया। अपर कलेक्टर, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत द्वारा हस्ताक्षर अभियान चलाया गया। इस अवसर पर विभिन्न प्रतियोगिताओं

    रंगोली, निबंध, दौड का आयोजन भी किया गया।
    कार्यक्रम में बाल कल्याण समिति सदस्य अनिल सक्सेना, संस्थान की छात्राएं, किशोरी बालिकाएं आदि के साथ पर्यवेक्षक आंगनवाडी कार्यकर्ता, आशा कार्यकर्ता, सहायिका, शोर्यादल सदस्य, कोरग्रुप सदस्य, जनप्रतिनिधि मुख्य रूप से उपस्थित थे। बेटी बचाओं बेटी पढाओं एक सरकारी सामाजिक योजना है। इसके द्वारा लडकियों के महत्व के बारे में लोगो को जागरूक करना है। साथ ही योजना का उद्देश्य लडकी के लिए कल्याण सेवा की दक्षता में सुधार करना, कन्या भु्रण हत्या को समाप्त करना, लडकियो की सुरक्षा सुनिश्चित करना ओर उनको अच्छी शिक्षा की जानकारी दी गई। इसी क्रम में विकासखण्ड एवं परियोजना स्तर पर सामुदायिक बैठक का आयोजन किया गया जिसमें बालिकाओं महिलाओं संबंधी मुद्दो पर चर्चा की गई। लेंगिक अपराधों से बालकों का संरक्षण अधिनियम 2012 पाक्सो एक्ट के बारे में तथा बाल विवाह रोकथाम हेतु लाडो अभियान की जानकारी प्रदान की गई।

    .

    Similar Post You May Like