Breaking News

हिन्दू-हिंदी, हिदुस्तान पर कवि प्रदीप की कविता

reporter 2018-09-14 341
  • share on whatsapp Buffer
  • kissaago
    • -कवि, प्रदीप शुक्ल

    एमपी डेस्क। किस्सागों टीम की और से हिंदी दिवस की सभी देशवासियों को बधाई। 14 सितंबर पूरे भारत में प्रतिवर्ष हिंदी दिवस के रुप में मनाया जाता है। 14 सिंतबर 1949 को संविधान सभा ने यह निर्णय लिया कि हिंदी ही भारत की राजभाषा होगी। हिन्दी-हिंदु और हिदुस्तान के वर्तमान परिदृश्य को ध्यान में रखते हुए कवि प्रदीप द्वारा रचित एक कविता किस्सागों टीम अपने पाठकों से साथ सांझा कर रहा है। .....................................हिन्दू राष्ट्र की मैली गंगा,
    हिन्दू का हिन्दू से पंगा,
    हिन्दू भूखा हिन्दू चंगा,
    हिन्दू सेठ हिन्दू भिखमंगा,

    हिन्दू नेता हिन्दू वोटर,
    हिन्दू देश मे खाता ठोकर,
    हिन्दू रोटी,चूनी, चोकर,
    हिन्दू पीता आँसू रोकर,

    हिन्दू के भगवान बहुत हैं,
    हिन्दू की संतान बहुत हैं,
    हिन्दू हिन्दू लड़ा बहुत है,
    हिन्दू लड़कर मरा बहुत है,
    हिन्दू फिर भी डरा बहुत है।।

    हिन्दू उच्च,निम्न है हिन्दू,
    हिन्दू पावन,पतित है हिन्दू,
    हिन्दू सुंदर, घृणित है हिन्दू,
    हिन्दू बाम्हन,दलित है हिन्दू,
    हिन्दू फिर है कैसे हिन्दू??
    इस बात पर है एक बिंदू..
    हिन्दू...हिंदी.......................
    -कवि, प्रदीप शुक्ल
    .

    Similar Post You May Like