Breaking News

रोजगार की पहल- ग्रामीण अंचालों में महिलाएं बना रही मास्क, देवास-उज्जैन में भी मांग

कपिल सूर्यवंशीreporter 2020-04-28 268
  • share on whatsapp Buffer
  • kissaago
    • मास्क बनाती ग्रामीण महिलाएं।

    सीहोर। कोराना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लगाए गए लॉक डाउन के कारण कई परिवारों के सामने रोजगार संकट खडा हो गया है। ऐसी स्थिति में वन विभाग ने संक्रमण को फैलने के रोकने और महिलाओं को रोजगार देने के लिए पहल शुरू की जिसका फायदा जिले की ग्रामीण अंचालों की अनेकों महिलाओं को मिल रहा है।
    वन विभाग द्वारा संचालित ग्रीन इंडिया योजना के तहत जिले के बुधनी, शाहगंज क्षेत्र के अनेकों गांवों में महिलाएं कपडे के मास्क बना रही हैं। जिन्हें विभाग विभाग खरीदकर ग्रामीण क्षेत्रों में वितरित कर रहा है।
    एक और जहां कोरोना संक्रमण के बचाव के लिए ग्रामीणों को निशुल्क मास्क उपलब्ध हो रहा है तो वहीं इस संकट के दौर भी महिलाओं को रोजगार भी मिल रहा है।
    वन मडण्लाधिकारी सीहोर रमेश गनावा ने चर्चा में कहा कि ग्रीन इंडिया मिशन के तहत करीब 150 महिलाओं को सिलाई प्रशिक्षण दिया गया था। जिन्हें 75 सिलाई मशीन भी वितरित की गई थी।
    इस समय 8 गांव के पांच केन्द्रों पर करीब दो दर्जन महिलाएं 2 हजार मास्क रोजाना बना रही हैं। कपडे से तैयार यह मास्क रियूजेवल है इसे धोकर रोजाना इस्तेमाल किया जा सकता है।

    महिलाओं ने बनाए 24 हजार मास्क
    पांच केन्द्र ग्राम खटपुरा,अकोला,शाहगंज, शहीदगंज और परसवाडा में ग्रामीण महिलाएं मास्क बनाने का काम कर रही है। इन केन्द्रों पर करीब 2 हजार मास्क रोजना तैयार किए जाते हैं। अकोला वन रक्षा समिति के माध्यम से
    महिलाओं को कपडा उपलब्ध कराया जाता है और प्रति मास्क के लिए 6 रूपए की दर से नकद भुगतान किया जाता है।
    अभी तक कुल 24 हजार मास्क तैयार कर लिए गए हैं। विभागों को यह मास्क 12 रूपए प्रति नग के हिसाब से बेचा जा रहा है।
    उज्जैन और देवास ने खरीदे मास्क
    सीहोर के ग्रामीण अंचलों में निर्मित मास्क की मांग तेजी से बढ रही है। डीएफओ रमेश गनावा ने बताया कि वनविभाग इन समितियों से मास्क खरीद कर ग्रामीण क्षेत्र और विभागों में वितरित करता है।
    वन विभाग उज्जैन और देवास को 6-6 हजार मास्क बेचे गए हैं। वनविकास निगम सीहोर ने हमसे 6 हजार मास्क खरीदें हैं। वन परिक्षेत्र आष्टा, बुधनी, सीहोर, इछावर ने भी मास्क खरीदें हैं।
    मास्क की डिमांड लगातार बढती ही जा रही है। कहा कि हमारा लक्ष्य 50 हजार मास्क बनवाने का है लेकिन मांग के अनुसार यह कार्य जारी रहेगा। .

    Similar Post You May Like