Breaking News

बदलाव- लॉक डाउन में संविधान की शपथ लेकर विवाह बंधन में बंधे दूल्हा-दुल्हन

reporter 2020-05-03 360
  • share on whatsapp Buffer
  • kissaago
    • संविधान की शपथ लेकर शादी करते वर-वधु।

    सीहोर। अनूसूचित जातियों में सामाजिक बदलाव देखने को मिल रहा है। सामाजिक रितियों को त्यागकर अब अनेकों दलित परिवार बौद्ध धर्म रिति रिवाज या फिर संविधान की शपथ लेकर विवाह को मान्यता दे रहे हैं। लॉक डाउन में सीहोर जिला मुख्यालय पर एक ऐसा ही अनूठा विवाह देखने को मिला जहां पर दूल्हा और दुल्हन ने संविधान की शपथ लेकर विवाह रचाया।
    संविधान निर्माता डा भीमराव अंबेडकर के चित्र पर माला पहनाकर वर-बधु ने एक दूसरे को अपना जीवन साथी माना।
    नदी चौराहा स्थित मालवीय बलाई समाज माता मंदिर के सभाकक्ष में यह विवाह संपन्न हुआ।
    चर्चा के दौरान नव विवाहित जोडा संतोष और इमरत ने बताया कि वह संविधान और डा अंबेडकर ने अनुयाई हैं जिन्होंने देश का संविधान रचा और दलित वर्ग को अधिकार दिलाए।
    इस अनूठी शादी में मन्दिर समिति के अध्यक्ष रामकिशन मालवीय, ट्रेड यूनियन के जिला अध्यक्ष अनारसिंह मालवीय, भारतीय विद्यार्थी मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष राजेश मालवीय के द्वारा वर-वधू एवं उनके साथ आए पारिवारिक सदस्यों को पहले सैनिटाइजर से हाथ धुलाकर मास्क भेंट किये गए। उसके उपरांत ग्राम थूना जिला सीहोर से वर संतोष मालवीय पिता हरिप्रसाद और वधू ग्राम शेरपुर तहसील कालापीपल से इमरत मालवीय पिता गंगाराम मालवीय ने पहले संविधान निर्माता डॉ.बाबा साहेब अंबेडकर के छाया चित्र पर माल्यार्पण किया भारतीय सविधान की शपथ लेकर वर-वधू ने एक दूसरे को वरमाला पहनाई और वैवाहिक जीवन की सामाजिक जिम्मेदारियों के निर्वहन का वचन लिया तथा विवाह बंधन मे बंध गये। शादी कार्यक्रम में कोरोनावायरस महामारी के चलते देश मे लागू लॉकडाउन को ध्यान में रखते हुए अनुविभागीय अधिकारी सीहोर से अनुमति ली गई थी। इस समारोह मे उपस्थित लोगों ने लॉकडाउन के दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए बहुत ही सादे कार्यक्रम मे विवाह कराया गया। विवाह कार्यक्रम को सफल बनाया जिसमे मुख्य रूप से किशोर सिंह मालवीय, रामलाल मालवीय, कमल सिंह, रमेश मालवीय, हरिप्रसाद मालवीय, अशोक मालवीय, निम्मी चौहान मुख्य रूप से उपस्थित रहे।
    .

    Similar Post You May Like