Breaking News

पेट के लिए भोजन और पैरों के लिए चप्पल बांटकर मजदूरों को राहत दे रहे वनकर्मी

reporter 2020-05-13 232
  • share on whatsapp Buffer
  • kissaago
    • रेस्ट हाउस के समीप वन विभाग का भोजन स्टाल।

    सीहोर। अन्य राज्यों से मजदूर सैकडों की तादात में पैदल, साईकिल, दो पहिया वाहन और आटो रिक्शा से पलायन कर अपने घरों की और लौट रहे हैं। वन विभाग द्वारा ऐसे जरूरतमंद प्रवासी मजदूर मजदूरों के लिए भोजन, पानी, फलों का इंतजाम किया जा रहा है। साथ ही मास्क और पैरों में पहनने के लिए चप्पलें भी वितरित कर रहे हैं।
    इंदौर-भोपाल राजमार्ग पर क्रिसेंट रिसोर्ट के सामने वन विभाग सीहोर के अधिकारी कर्मचारी इस मानवसेवा कार्य में लगे हुए हैं जो रोजाना जरूरतमंद लोगों को भोजन पैकेट, शीतल जल और फल वितरित कर रहे हैं। विभाग द्वारा रोजाना एक हजार भोजन पैकट वितरित किए जाते हैं। सेवा के इस कार्य में डीएफओ से लेकर विभाग के छोटे कर्मचारी सभी सहयोग दे रहे हैं।
    डीएफओ सीहोर रमेश गनावा ने चर्चा में बताया कि बडी तादाद में महाराष्ट्र और गुजरात से यूपी व अन्य राज्य के मजदूर रोजाना सीहोर जिले से निकलते हैं, कई मजदूरों के पैरों में तो चप्पल भी नहीं होती। यदि हम सक्षम हैं तो हमे इस विपत्ती की घडी में संकट में फंसे लोगों की मदद करनी चाहिए। मैंने अपने अधीनस्थ्य कर्मचारी से बात की और तय किया कि हमें इन जरूरतमंद लोगों की मदद करना चाहिए। इसके लिए पूरे जिले के वनकर्मी आर्थिक सहयोग कर रहे हैं। मई 8 से यह व्यवस्था शुरू की गई है। जिसमें मार्ग से निकलने वाले हर एक जरूरतमंद व्यक्ति के लिए भोजन पैकेट, फल, पानी, बिस्किट और पैरों में पहनने के लिए चप्पल वितरित करते हैं। कर्मचारी यह काम डयूटी से समय निकालकर करते हैं।

    महिला कर्मचारी बनाती हैं खाना
    वनकर्मियों के सहयोग से यह रसोई चल रही है। रेंजर सीहोर हरिओम मनु ने बताया कि वनकर्मी बाजार से रोजाना सब्जियां आते हैं और स्टाफ

    के सभी लोग मिलकर पैकेट बनाते हैं। महिला कर्मचारी पुडी और सब्जी बनाती हैं। कहा कि लॉक डाउन में मजदूरों की हालत बहुत खराब हो गई है, कोई भी मजदूर भूखा न रहे इसलिए हमने यह रसोई शुरू की है, हमें सभी वनकर्मियों का सहयोग मिल रहा है। आगे भी यह रसोई चलती रहेगी।
    इस कार्य में इछावर रेंजर राजकुमार शिवहरे, सीहोर रेंजर हरिओम मनु, डिपो प्रभारी प्रकाश उइके, वनपाल मधु खलको, शैलेष कुमार सिंह, विष्णुदत्त मिश्रा, अजय कोठारी, बृजेश राठौर, मनोज बामनिया, राजदीप का विशेष सहयोग है।


    .

    Similar Post You May Like