Breaking News

बोले एनएसयूआई अध्यक्ष छात्र - छात्राओं का तीन माह का रूम रेंट, होस्टल फीस माफ करे सरकार

reporter 2020-05-16 218
  • share on whatsapp Buffer
  • kissaago
    • देवेन्द्र ठाकुर, एनएसयूआई जिलाध्यक्ष सीहोर।

    सीहोर। देशव्यापी लॉक डाउन में हर वर्ग प्रभावित हुआ है। ऐसे में विद्यार्थी वर्ग अच्छा खासा परेशान है और गरीब वर्ग से आने वाले छात्रों के सामने बड़ी समस्या खडी हो गई है। ऐसे ही पीडित छात्रों की

    आवाज एनएसयूआई ने उठाई है।
    भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन ने छात्र-छात्राओं का तीन माह का रूम रेंट, होस्टल फीस एवं बस फीस माफ करने की मांग जिला प्रशासन से की है।
    इस संबंध में एनएसयूआई के जिलाध्यक्ष देवेन्द्र ठाकुर ने कहा कि छात्र-छात्राओं की आर्थिक स्थिति के बारे में भी बताया। कहा कि लॉकडाउन के चलते सभी तरह के व्यापार बंद हैं।
    जिसके चलते लोग कॉलेजों में पढऩे वाले अपने बच्चों की फीस व अन्य खर्चों को लेकर चिंतित हैं। ऐसे में सभी कॉलेजों में एक सेमेस्टर की फीस तो पूर्णतया माफ की जानी चाहिए।
    साथ ही हॉस्टल में रह रहे छात्रों से किराया भी न लिया जाए। सरकार को छात्रों के भविष्य के प्रति सोचना चाहिए।
    उन्होंने कहा कि सीहोर जिले के विभिन्न शहरों में रह रहे छात्र-छात्राओं के समक्ष गंभीर समस्या उत्पन हो गयी है।
    वहीं दूसरी तरफ मकान मालिकों द्वारा छात्र-छात्राओं से किराये को लेकर दबाब बनाया जा रहा है जिससे छात्र काफी दबाब महसूस कर रहे है।
    इस समय कोरोना जैसी महामारी के चलते सीहोर जिले के हजारों छात्र-छात्राएं निम्न वर्ग और मध्यम वर्ग से आते हैं जो कि इस समय रूम रेंट, होस्टल फीस एवं बस फीस देने मे असमर्थ हैं।
    जिले के हजारों छात्र-छात्राओं की समस्या को ध्यान में रखते हुए तीन

    माह का रूम रेंट, होस्टल फीस एवं बस फीस जल्द से जल्द माफ करने की कृपा करें।
    एनएसयूआई प्रदेश सचिव सर्वेश व्यास ने बताया कि मकान मालिक विद्यार्थियों पर किराए आदि का दबाव बना रहे है। इसलिए सरकार

    इस मामले का समाधान करे विद्यार्थियों की फीस और रेंट माफ करे या फिर स्वयं भुगतान कराने की व्यवस्था करे।
    .

    Similar Post You May Like