Breaking News

फर्जी पंजीयन कर सोसायटियों में व्यापारियों से गेहूं खरीद रहे कर्मचारी, कलेक्टर से शिकायत

reporter 2020-05-26 686
  • share on whatsapp Buffer
  • kissaago
    • विश्राम गौर, शिकायतकर्ता किसान।

    सीहोर। बारिश का मौसम मुहाने पर है और कृषि उपज मंडियों में किसानों को गेहूं का बाजिव दाम नहीं मिल रहा है तो वहीं सरकारी खरीदी केन्द्रों पर छोटे रकबे वाले किसानों के मैसेज नहीं पहुंच रहे हैं ऐसी स्थिति में किसान परेशान है। समर्थन मूल्य खरीदी 31 मई तक होगी जबकि जिले में बड़ी संख्या में किसानों का गेहूं नहीं बिक सका है। सरकारी खरीदी केन्द्रों और सोसाटियों में कर्मचारियों की कारगुजारियों के चलते किसानों को मैसेज नहीं मिल रहे, किसानों का आरोप है कि सोसायटी कर्मचारी जमकर धांधली कर रहे हैं।
    अपने कर्मचारियों और रिश्तेदारों के नाम पर फर्जी पंजीयन कर व्यापारियों से अमानक स्तर का गेहूं खरीद रहे हैं जबकि पात्र किसान जिन्होंने पंजीयन कराए हैं उनको मैसेज नहीं आ रहे हैं। किसानों के साथ भेदभाव हो रहा है। सोसायटियों में चल रही धांधली को लेकर चरनाल के एक किसान ने कलेक्टर को लिखित शिकायत दर्ज कराकर जांच की मांग उठाई है।

    ग्राम चरनाल के किसान विश्राम गौर ने कलेक्टर को लिखित शिकायत में बताया कि सेवा सहकारी समिति चरनाल और खरीदी केन्द्र छतरपुरा पर व्यवस्थापक प्रबंधक मांगीलाल गौर, कम्प्यूटर आपरेटर और अस्थाई कर्मचारी खरीदी में धांधली कर रहे हैं।
    किसान का आरोप है कि प्रबंधक मांगीलाल गौर ने नियमों की अनदेखी कर आपरेटर और अस्थाई कर्मचारियों के नाम पर फर्जी पंजीयन करवाए। जिसमें कर्मचारियों की ज्यादा भूमि दर्शाकर व्यापारियों से अमानक स्तर का गेहूं सोसाटियों में खरीदा गया।
    जबकि कर्मचारियों के पास दस्तावेजों में दशाई गई भूमि नहीं है। किसान विश्राम गौर ने आरोप लगाया कि प्रबंधक द्वारा अपने

    रिश्तेदारों के नाम पर भी फर्जी पंजीयन कराकर गेहूं खरीदा
    गया जबकि क्षेत्र में कम रकबे वाले किसानों के साथ भेदभाव बरता जा
    रहा है।
    उक्त किसान ने मामले में निष्पक्ष जांच की मांग उठाई है।
    छोटे किसानों के नंबर नहीं आ रहे हैं। गोपालपुरा के किसान बृजमोहन अहिरवार ने बताया कि उन्होंने दो माह पहले पंजीयन कराया था लेकिन उनको अभी तक मैसेज नहीं आया है।

    केन्द्रों पर फैली अव्यस्था के चलते किसान परेशान है, तीन दिन बीत जाने के बाद भी केन्द्रों पर किसान की उपज नहीं तुल पा रही है। किसान नेता राहुल गौर ने आरोप लगाते हुए कहा कि केन्द्रों पर कर्मचारी तुलाई के नाम पर पैसे मांग रहे हैं, बडे और रसूखदार किसानों का गेहूं तौला जा रहा है जबकि गरीब और छोटे किसानों से कर्मचारी अभद्रता करते हैं।

    चरनाल सोसायटी प्रबंधक मांगीलाल गौर का कहना है कि किसान विश्राम गौर से तुलाई को लेकर विवाद हुआ था, जिसको लेकर उसने झूठी शिकायत की है।
    फर्जी पंजीयन पर तुलाई नहीं हो रही है जमीन बटाई पर ली है वहीं पंजीयन पर गेहूं खरीदा गया है।

    .

    Similar Post You May Like