Breaking News

दिग्विजय ने सुनी किसानों की समस्याएं, अधिकारियों ने नहीं उठाए फोन

reporter 2020-06-05 388
  • share on whatsapp Buffer
  • kissaago
    • किसानों से चर्चा करते पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह।

    सीहोर। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह शुक्रवार को सीहोर प्रवास पर थे जहां उन्होंने कृषि उपज मंडी सीहोर का निरीक्षण किया। इस दौरान वह किसानों से मिले और उनकी समस्याएं भी सुनी। किसानों ने बताया कि खरीदी केन्द्रों और सोसायटियों में किसानों के साथ भेदभाव हो रहा है। बडे किसानों के खातों में उपज की राशि डाली जा रही है जबकि छोटे किसानों को अभी तक भुगतान नहीं मिला। निरीक्षण के दौरान कोई भी प्रशासनिक अधिकारी मंडी नहीं पहुंचा इसको लेकर श्री सिंह ने नाराजगी जताते हुए कहा तुलाई केन्द्रों पर जाने की सूचना मैंने प्रशासन को दे दी थी लेकिन मुझे इस बात का दुख है कि जब शिवराज सिंह चौहान पूर्व सीएम थे तो उनके लिए जिला कलेक्ट्रेट रात 10 बजे खुलती थी और जब मैं पूर्व मुख्यमंत्री के रूप में और जब मंडी में किसानों की समस्या सुनने आया हूं तो यहां न एसडीएम है न तहसीलदार है और न कलेक्टर है और कोई मेरा फोन नहीं उठा रहा है। मैंने इस बारे में कमीश्नर से कहा है कि क्या आपने बायकाट करने का निर्णय लिया है यदि सूचना है तो इस प्रकार का व्यवहार आपत्तिजनक है।
    श्री सिंह ने कहा कि खरीदी केन्द्रों पर किसानों की शिकायतें मिल रही हैं एक शिकायत तो यह है कि हर क्विंटल पर 1 किलो किसानों का काटा जा रहा है। जबकि खाली बोरी का काटने का आदेश है प्लास्टिक की बोरी का 300 ग्राम और जूट की बोरी का 600 ग्राम तो 1 किलो क्यो काटा जा रहा है आपत्तिजनक है इस पर मैं कार्यवाही करने के लिए प्रशासन को कहूंगा।
    भाजपा के कार्यकर्ता और अधिकारी कर्मचारी मिलकर सोसायटियों में
    धांधली कर रहे हैं।
    चरनाल सोसायटी में चोरी के आरोपी कर्मचारी को मौजूदा सरकार
    ने दोबारा से उसी सोसायटी में पदस्थ्य कर दिया यानी कि खुले रूप से भारतीय जनता पार्टी के लोगों का हिस्सा इसमें है भ्रष्ट भाजपा नेता, कर्मचारी और अधिकारी इसमें शामिल है यह मेरा आरोप है और मैं इसकी जांच की मांग करता हूं।
    कहा कि सरकार ने 5 जून तक खरीदी का आदेश निकाला था लेकिन 30 मई तक ही खरीदी हुई। 17 मई के बाद से किसानों के खातों में भुगतान नहीं आ रहा है इन सब बातों को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से चर्चा करूंगा।
    श्री सिंह ने कहा कि कमलनाथ सरकार में खरीदी व्यवस्था सुव्यस्थित थी एक दिन में गेहूं तुल जाता था लेकिन इस सरकार में पांच दिन में भी किसानों के नंबर नहीं आए किसानों को काफी परेशान का सामना करना पड़ रहा है।
    .

    Similar Post You May Like