Breaking News

सरकार की उपेक्षा से परेशान हैं ये कोरोना योद्धा, संविदा स्वास्थ्यकर्मियों ने सौंपा ज्ञापन

reporter 2020-06-05 68
  • share on whatsapp Buffer
  • kissaago
    • एडीएम को ज्ञापन सौंपते संविदा स्वास्थ्यकर्मी।

    सीहोर। जान जोखिम में डालकर जिस पर हमारे स्वास्थ्यकर्मी कोरोना संक्रमण के बीच लोगों की सेवा कर रहे हैं उसे पूरा देश सराह रहा है। बावजूद इसके भी इन कोरोना वारिर्यस शासन की उपेक्षा के शिकार हो रहे हैं। कोरोना संक्रमण काल में संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी फ्रंट लाईन योद्धा की भूमिका में काम कर रहे हैं। लेकिन शिवराज सरकार संविदा कर्मचारियों के साथ वादा खिलाफी कर रही है। जिसके विरोध में शुक्रवार को संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी संघ ने अपनी

    मांगों को लेकर सीएम के नाम एक ज्ञापन अपर कलेक्टर विनोद कुमार चतुर्वेदी को सौपा। कर्मचारियों का कहना है कि 5 जून 2018 को पिछली सरकार में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की कैबिनेट द्वारा संविदा कर्मचारियों के हित के लिए संविदा नीति का प्रस्ताव पास किया था जिसमें संविदा कर्मचारियों को नियमित कर्मचारियों के वेतन का 90 प्रतिशत वेतन देना और नियमितीकरण के अवसर उपलब्ध
    कराना शामिल था।
    जिस पर सरकार के कई विभागों ने नीति पर अमल किया और विभागों में लागू कर दिया परंतु स्वास्थ विभाग के राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की कर्मचारियों को अभी तक भी नीति का लाभ नहीं दिया गया वर्तमान में कोरोना महामारी के गंभीर संकट में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के संविदा कर्मचारी अपनी जान की बाजी लगाकर जनता की सेवा में लगे हुए हैं।
    फिर भी सरकार द्वारा उनके हितों को निरंतर नजरअंदाज किया जा रहा है इसी परिपेक्ष में शुक्रवार को संविदा स्वास्थ्य कर्मचारी संघ के सदस्यों डॉ मरियम हुसैन, डॉ अशोक मालवीय, डॉ अमृता सिंह, एएनएम रजनी योगी और अन्य साथियों ने मिलकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के नाम एडीएम विनोद कुमार चतुर्वेदी को ज्ञापन सौंपा और जल्द नीति लागू करवाने की मांग की।

    .

    Similar Post You May Like