Breaking News

बिजली-पानी नहीं वोट नहीं डालना चाहते इस कालोनी के निवासी

reporter 2018-11-17 423
  • share on whatsapp Buffer
  • kissaago

    सीहोर। मतदान प्रतिशत बढाने के लिए सरकार और जिला प्रशासन मतदाता जागरुकता अभियान चला रहा है। अभियान में स्कूल-कालेज के बच्चे और प्रबुद्धजन से लेकर फिल्मी सितारे तक वोट डालने की अपील करते दिखाई दे रहे हैं। नुक्कड नाटक, रंगोली,बाल पेंटिंग,प्रचार रथ के साथ ही कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक जैसे आला अधिकारी भी सोशल साईटस पर लाइव आकर मतदान की अपील कर रहे हैं। लेकिन इसके इतर जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों से नाराज कुछ लोग ऐसे भी हैं जो वोट नहीं डालना चाहते और मतदान का सीधा विरोध कर रहे हैं। जिनका कहना है कि कालोनी में रोड़ नहीं तो वोट नहीं,बिजली नहीं वोट नहीं। रहवासियों को कहना है विकास की बात करने वाले नेताओं को जमीनी हकीकत भी देख लेना चाहिए।
    जिला मुख्यालय के मंडी थाना,जिला जेल के समीपस्थ्य स्थित एकांत बिहार कालोनी में न तो बिजली है और ना ही रोड। रहवासी लोकेन्द्र मेवाडा ने बताया कि 2010 में कालोनी में प्लाटिंग शुरु हुई। यहां आधा दर्जन मकान बने हैं। प्लाट बेचते वक्त कालोनाईजर द्वारा बताया गया था बिजली,सडक और पानी की व्यवस्था की जाएगी लेकिन प्लाट बेचने के बाद कालोनाईजर भाग गया और कालोनी में सड़क, बिजली और पानी की व्यवस्था नहीं की। रहवासियों से बिजली विभाग से अस्थाई बिजली कनेक्शन लिए हैं। जिसका बिल बहुत ज्यादा आता है। मेवाडा ने बताया कि बिजली की समस्या लेकर अनेकों बार बिजली विभाग के अधिकारियों से लेकर विधायक और कलेक्टर तक गुहार लगा चुके हैं। लेकिन सभी आश्वासन देते हैं। बिजली अधिकारियों का कहना है कि अवैध कालोनी होने के कारण बिजली नहीं दे सकते। जबकि सौभाग्य योजना में हर घर रोशन करने का दावा विभाग कर रहा है। दूसरी और विद्युत विभाग के रिकार्ड में सीहोर जिला जुलाई माह 2018 में ही पूर्ण विद्युतीकृत घोषित हो चुका है। आश्चर्य की बात यह है बिजेारी बिजली सब स्टेशन से महज कुछ दूर ही यह कालोनी स्थित है इसके बावजूद भी यहा रहवासी बिजली के लिए तरस रहे हैं। जिला मुख्यालय पर स्थिति ऐसी अनेकों अवैध कालोनियों में विद्युत विभाग ने बिजली देने से साफ इंकार कर दिया है। जिसके चलते रहवासियों को मंहगे दाम पर अस्थाई कनेक्शन लेकर काम चलाना पड़ रहा है। नगर की पॉश कालोनी अवधपुरी जोन 2 में भी बिजली सुविधा नहीं हैं। रहवासियों का कहना है कि बिजली नहीं तो वोट नहीं। रहवासियों ने अस्थाई बिजली कनेक्शन ले रखा है। जब इस संबंध में बिजली विभाग के अधिकारियों से चर्चा की गई तो जूनियर इंजीनियर पजन गंगेले ने बताया कि अवैध कालोनियों में बिजली देने का नियम नहीं है। .

    Similar Post You May Like