Breaking News

विवादों में कोविड 19 नर्स भर्ती प्रक्रिया- सीएमएचओ से शिकायत

reporter 2020-10-09 449
  • share on whatsapp Buffer
  • kissaago
    • नर्स भर्ती को लेकर शिकायत करती महिलाएं।

    सीहोर। एक और जिले में लगातार कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ रही है तो वहीं दूसरी और कोविड में होने वाली अस्थाई भर्ती प्रक्रिया विवादों के घेरे में आ गई है। शुक्रवार को सीएमएचओ कार्यालय पहुंचकर नर्स आवेदिकाओं ने सीएमएचओ सुधीर कुमार डेहरिया को भर्ती के संबंध में लिखित शिकायती आवेदन सौंपा। जिनका कहना था कि प्रक्रिया में अनियमितता बरती गई है योग्य उम्मीदवार को छोड अयोग्य का चयन हुआ है।
    आपको बता दे कि 38 नर्सों की अस्थाई तौर पर एक माह के लिए नियुक्त करने के लिए 23 सितंबर को चयन प्रक्रिया की गई। इसके बाद 7 अक्टूबर को जिनको नर्स की नियुक्ति दी गई है, उन्हें अन्य उम्मीदवार अपात्र बता रहे हैं। साथ ही चयन प्रक्रिया में फर्जीवाड़ा करने के आरोप लगाकर जांच व सूची निरस्त करने की मांग कर रहे हैं।

    गुरुवार को बैतूल, गोहद व सीहोर की आवेदिकाओं ने सीएमएचओ कार्यालय पहुंचकर सीएमएचओ सुधीर डेहरिया से मुलाकात कर कोविड 19 के लिए की गई नर्सों की नियुक्ति पर फर्जीवाड़ा करने के आरोप लगाए हैं, उनका कहना है कि जिन 38 नर्सों को नियुक्ति पत्र दिए गए है, उनमें कई उम्मीदवार अपात्र हैं। क्योंकि कुछ की डिग्री, डिप्लोमा अधूरे हैं, तो कुछ के अंक कम हैं, लेकिन उन्हें चयन समिति ने साठगांठ कर नियुक्ति दे दी है। जबकि उससे अधिक अंक, कोर्स पूरा करने वाली व अनुभवी नर्सों को मौका नहीं दिया गया। इतना ही नहीं स्वास्थ्य विभाग द्वारा मेरिट व योग्यता सूची भी जारी नहीं की। जबकि नियुक्ति पत्र दे दिए गए। जब हमने सीएमएचओ से मिलकर सूची दिखाने को बोला गया तो दबाव में एक सूची चस्पा कराई गई, जिसमें 38 की जगह 27 प्रतिभागियों के ही नाम चयन सूची में है। खास बात यह है कि इस सूची में कम अंक व पढ़ाई पूरी नहीं करने वालों के नाम है। यही कारण है कि प्रतिभागियों ने सीएमएचओ डाक्टर डेहरिया से पूरे मामले की जांच कर चयन सूची निरस्त कर पारदर्शिता से चयन करने की मांग की है।

    18 साल के अनुभव व 80 फीसद अंक वालों को छोड़ा

    कोविड 19 में नर्स के लिए आवेदन करने वाली मंडीद्वीप निवासी संगीता कोरी ने बताया कि जो चयन सूची 74 से 60 फीसद अंक वालों नियुक्ति दी गई है। जबकि उनके 80 फीसद अंक हैं। जबकि राजकुमारी कुशवाहा ने स्वास्थ्य विभाग की इस प्रकिया पर गंभीर आरोप लगाए हैं। उनका कहना है कि मैं तीन बार से आवेदन कर रही हूं। मेर अंक अधिक होने के साथ ही 18 साल का अनुभव है, उसके बाद भी ऐसे लोगों का चयन सूची में नाम है, जिनका रजिस्ट्रेशन नहीं है। अभी डिप्लोमा व डिग्री पूरी नहीं हुई है।

    जब इस संबंध में सीएमएचओ सुधीर डेहरिया से बात की गई तो उनका कहना था कि शासन के आदेश पर चयन समिति ने एक माह के लिए 38 नर्सों का चयन किया है। यदि इसमें गड़बड़ी हुई है तो पूरे मामले की जांच कराई जाएगी। साथ ही आरोप सही पाए गए तो सूची निरस्त की जाएगी।
    .

    Similar Post You May Like